​​​Does The Stem Cell treatment Work in Muscular Dystrophy?

English & Hindi
Question:- Many hospitals claim that they treat Muscular Dystrophy by stem cell method. To what extent is this true ??
Answer:- It is the matter of regret that this type of cheating is happening in our society. Helpless parents get trapped in the false claim of the cheaters of first taking out their child’s stem cell, then put it back to his body calling it a miracle. If their child will be healed, they even get ready for their child’s treatment by taking debt. But, the truth is that there is no remedy  of this disease. Neither any medicine nor any treatment has healed it so far. Therefore, it is very necessary to avoid cheaters.

Are you too a victim of this cheating ??

Please comment and tell.
Share this post to those who are suffering from this disease. May be your one share can avoid someone to be cheated by the thugs.

For more info. contact:-

– Hamir Patel

+91 8735835363

NayiUmmid@Gmail.Com

————————————–

सवाल:-  स्टेम सेल पद्धति से बहुत सारी हॉस्पिटल दावा करती है की वो मस्क्युलर डिस्ट्रॉफी का इलाज करती है ये कितनी हद तक सच है??

जवाब:- अफसोस की बात है की इस तरह की ठगाई समाज में चल रही है। आपके बच्चे का ही स्टेम सेल लेकर फिर से उसके ही शरीर में डालके चमत्कार करने के जूठे दावे में लाचार माँ-बाप फंस जाते है। उनका बच्चा ठीक हो जाए तो वो क़र्ज़ लेकर भी इलाज कराने को तैयार हो जाते है, किन्तु सच्चाई ये है की इस बीमारी का कोई इलाज नहीं है। इस बीमारी को अभी तक कोई दवाई या कोई भी इलाज ठीक नहीं कर पाया है।  इसलिये ऐसे ठगों से बचना बहुत जरुरी है।।।

क्या आप भी इस ठगी का शिकार हुए है? कोमेन्ट करके जरूर बताये।
इस पोस्ट को उन लोगो के साथ जरूर शेयर करे जो इस बीमारी से ग्रस्त है। हो सकता है आपके 1 शेयर से कोई इस ठगी का शिकार होने से बच जाए।
ज्यादा जानकारी के लिए संपर्क करे:-

– हमीर पटेल

+91 8735835363

NayiUmmid@Gmail.Com 

Advertisements

​​​What is Muscular Dystrophy? Reasons & Treatment:-मस्क्युलर डिस्ट्रॉफी क्या है? कारण और उपचार:

Hindi & English

मस्क्युलर डिस्ट्रॉफी यह एक ऐसी लाइलाज और खतरनाक बिमारी है जो हमारे डीएनए में बदलाव (mutation) होने से होती है।

डीएनए का जिन बदल जाने से हमारे शरीर की माँसपेशियां बनाने के लिए बहुत जरुरी ‘डिस्ट्रोफिन’ नामक प्रोटीन बनना बंद हो जाता है। परिणाम स्वरूप उसके बाद जो नई कोषिकाए बनती है उसमे कमी आती रहती है। उसकी वजह से धीरे धीरे व्यक्ति की माँसपेशियां कमजोर होने लगती है और सिकुड़ने लगती है। एक बार यह शुरू हो गया उसके बाद इसका कोई इलाज नहीं है। ये बढ़ता ही जाता है। शुरू में शरीर में दर्द और खिंचाव का अनुभव होता है, बोलने में और खड़े होने में तकलीफ होती है बाद में खड़े भी नहीं हो सकते, हाथ-पैर सिकुड़ जाते है और आगे जाकर हृदय और फेफड़ो की नसे भी कमजोर होने लगती है। यह होते ही साँस लेने की और खून के परीभ्रमण की अंतिम समस्याएँ शुरू होती है जो सालो की यातनाओ के बाद इन्सान को धीरे धीरे मृत्यु की और ले जाता है।  इस बीमारी का कोई इलाज नहीं है और यह होने की कोई निश्चित वजह भी नहीं है। ये डीएनए के जिन में बदलाव होने से होता है इसलिये पूर्वजो में अगर किसी को ये बीमारी थी तो आनुवंशिक भी एक कारण हो सकता है।

– हमीर पटेल

+91 8735835363

NayiUmmid@gmail.com

———————————

“`Muscular Dystrophy is one of the  incurable disease which occurs due to disorder (mutation) in DNA/GENES.

Due to defect in genes & dysfunction in DNA our muscle cells stop producing/storing dystrophin (protien) which is most important in building tissues/muscles all over the body.

As a result of that there is decrease in production of tendons in body.

Due to that there is weakness & contraction in muscles of that person.

And once it occurs there is no any treatment of it, except physiotherapy,  It gets worse, stiffness & pain & contraction in body & even difficulty in speaking and standing,  after that we cant even get up, hands and legs get contracted and in further tissues of heart and lungs also get affected & damaged.

After that happens there is start in final stage of breathing and low heart beat & blood circulation which leads a person to death slowly slowly.

Till now no cure of this disease is found and exact cause.

It occurs due to mutation in genes of DNA.. conclusion- its Genetic or Family history is an excused answer which we have label.

Future research is the only Genes Edit replacement Therapy by 2020 in trial basis in India.. expected so.

“` 

Hamir Patel

+91 8735835363

NayiUmmid@gmail.com